28 Akhand Jyoti

अजित कॉलोनी, रातानाडा, जोधपुर – 342003 (राज.) इण्डिया मो.-09314708100 फोन न.: 0291-2516292

विचित्र लेकिन अनूठा सत्य

इस तीर्थ में प्रज्वलित 28 अखण्ड ज्योतियों में से एक

संपूर्ण विश्व का एक मात्र मंदिर

इन सभी ज्योतियों में जून 1993 से काले काजल की अपेक्षा पीला चन्दन एवं नवम्बर, 2008 से इन ज्योतियों में केसर की पंखुडियाँ झुलती हुई दिखाई देने लगी है |

मूंगफली के तेल से प्रज्वलित एक ज्योति में अत्यंत केसरिया रंग का चन्दन एकत्रित होता हैं | जबकि घी के दीपक की अपेक्षा तेल का दीपक सर्वाधिक कला होना चाहिए |

जहाँ ज्योति में जून 2009 से सफ़ेद चन्दन एकत्रित होता है|

वैदिक धर्मशास्त्रों के अनुसारसफ़ेद चन्दन के वृक्ष – जंगल केवल देवलोक में ही उपलब्ध हैं | देवलोक में देवता भगवान शिव की पूजा सदैव सफ़ेद चन्दन से किया करते हैं | यही कारण हैं की पृथ्वीलोक में भगवन शिव पर ॐ की आकृति सफ़ेद रंग में ही अंकित की जाती हैं |

जैन मतानुसार सफ़ेद चन्दन के वृक्ष – जंगल  मे मल्यागिरी पर्वत में है | इसी जंगल में माँ चक्रेश्वरी का निवास है और इस मंदिर में केसरिया कुंथुनाथ से माँ चक्रेश्वरी का अति विशेष लगाव आभास किया जाता रहा है |

इस तीर्थ मन्दिर में पट मंगल नहीं होता हैं अर्थात यात्रियों के लिये दर्शन हेतु मन्दिर 24 घंटे खुला रहता हैं |

सम्पूर्ण जानकारी बाबत इस तीर्थ मंदिर का विस्तृत इतिहास उपलब्ध है | आप इसे स्वयं या डाक द्वारा निशुल्क मंगवा सकते है |

Contact-

9314708100

राजरुपचंद मेहता

अध्यक्ष

Main Menu

Our Philosophy

It is the only temple in the world where 28 lamps have been burning and lightening round the clock through out the year with deshi ghee groundnut oil since 18 june 1993.A miracle has been observed which has compelled me to realise the existense of some super power that named as god as these lamps generates saffron and white colured carbon which is a matter of utter surprise as science has no answer to explain.As.per science these lamps are bound to

generate only black coloured carbon mono oxide powder

Follow Us

Contact Us

86-A, Jain Mandir Gali, Ajit Colony, Jodhpur, Rajasthan 342001

Phone: 093147 08100

Email:

© .com -2018

Developed By :

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!